HomeSEOWhat is SEO in Hindi 2022 - SEO क्या है और SEO...

What is SEO in Hindi 2022 – SEO क्या है और SEO कैसे करते हैं ?

नमस्कार दोस्तों, SbKuchHindiMe.In में आपका स्वागत है | आज हम आपको “SEO क्या है [what is seo seo in hindi] ?” , “SEO कितने प्रकार का होता है ?” , “SEO ka full form kya hai?” और “SEO Kaise Kre 2022?” इन सभी टॉपिक के बारे में पूरी जानकारी देने वाले है |

SEO का फुल फॉर्म Search Engine Optimization होता है | जिसका सीधा संबंध search engine से होता है। SEO हमारे Blog के लिए क्यूँ जरुरी है?

Seo हमारे ब्लॉग के लिए बहुत जरुरी होता है , क्युकी इसकी मदद से हम अपने किसी भी पोस्ट को किसी भी सर्च इंजन के पहले पेज पर टॉप पोजीशन में रैंक करा सकते है | Seo एक प्रकार से search engine में अपने ब्लॉग पोस्ट को Top पर लाने वाले Rules होते है | जिन Rules को हम follow करके अपने ब्लॉग को search engine के first Page पर show करा सकते है |

SEO क्या है और इसके प्रकार - What is SEO in Hindi
seo क्या है इसके प्रकार

सभी ब्लॉगर का टारगेट होता है की उसका सभी पोस्ट गूगल पर रैंक करे | जिससे उनके ब्लॉग पर ज्यादा से ज्यादा ट्राफिक आये | क्युकी ज्यादातर लोग Google पर first page पर आने वाले Blogs पर ही visit करना पसंद करते है | और अधिक से अधिक ट्राफिक पाना ही सभी bloggers का टारगेट रहता है | इसलिए हमे Seo को follow करना पड़ता है। तो चलिए पुर विस्तार से जाने की SEO क्या है [what is seo in hindi ] और यह क्यों महत्वपूर्ण है |

Seo का क्या मतलब है इसका क्या उपयोग है ?

Seo का फुल फॉर्म होता है, Search engine optimization जो बिल्कुल traffic Rules की तरह होता है। जैसे traffic को सुचारू रूप से चलाने के लिए हमे Roadmap की आवश्यकता होती है | जिससे की लोगों को किसी प्रकार की समस्या का सामना न करना पड़े और वह जल्दी से अपना सही रास्ता चुनकर अपने Target तक पहुच सकते।

ठीक उसी प्रकार Seo भी एक search engine Traffic Rules है। ताकि जब कोई कुछ भी सर्च करे तो उसे जल्दी से सही जानकारी मिल सके | इसके लिए सभी search engine का Roadmap होता है जिसे Seo (Search engine optimization) कहते है।

Seo और traffic rules दोनों ही लोगो के लिए काम करते है। ताकि हमारी journey अच्छी रहे। जैसे अगर आप “what is seo” सर्च करते है लेकिन जो Result आते है वह किसी और चीज के बारे में है तो आपको बार-बार search करना पड़ेगा जिसका मतलब है कि आपकी journey और user experience ख़राब रहा।

इसलिए google search engine अपने user experience बढ़ने के लिए Seo factor का इस्तेमाल करता है ताकि उनके user को fastly और correctly information दे सके।

हर search engine के अपने seo factor होते है। आज के समय मे Google सबसे बड़ा search engine है जो पूरी दुनिया मे सबसे ज़्यादा इस्तेमाल किया जाता है। google लगभग 200 Seo factor पर काम करता है। दोस्तों इतना पढना के बाद आप यह तो जान गये की SEO क्या है [what is seo in hindi ]

अगर आप Seo को एक लाइन में समझना चाहते है तो आप यह जान ले कि google वही content को पसंद करता है जिसे user पढ़ना पसन्द करते है। जिसे वह content अपने आप first page पर चला जाता है। और अगर पसंद नही करते तो धीरे- धीरे नीचे चला जाता है। यह google seo का सबसे important factor है।

SEO क्यों जरुरी है?

सभी लोगों का ब्लॉग या वेबसाइट को बनाने का मकसद होता है उसे लोगों तक पहुँचा कर एक successful blogger बनना | ब्लॉग या वेबसाइट बनाना अलग बात है और उसे लोगों तक पहुँचाना बिलकुल अलग बात है|

मान लीजिये हमने बहुत मेहनत करके वेबसाइट या ब्लॉग बनाया | उसमे हमने ढेर सारे पोस्ट भी लिख दिए | और हमने SEO के लिए कुछ भी नहीं किया | तो फिर हमारे ब्लॉग को सर्च इंजन कभी भी अपने रिजल्ट में show ही नहीं करेगा |

अब आप इतना तो समझ ही गए होंगे की अपने ब्लॉग या वेबसाइट को लोगो को दिखाना है तो उसे सर्च इंजन के रिजल्ट में शो कराना पड़ेगा | और सर्च इंजन में show कराने के लिए सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन करना पड़ेगा |

इस तकनीक के बारे में जितनी अच्छे से नॉलेज होगी हम अपने वेबसाइट या ब्लॉग को उतना ज्यादा लोगों तक पहुंचा सकेंगे | जितने ज्यादा लोग हमारे ब्लॉग या वेबसाइट को देखेंगे हमारी रेवेन्यू उतनी ज्यादा होगी |

यह तकनीक बहुत ही आसान तकनीक है अगर इसे हम बढ़िया से समझ लेते हैं | फिर हमे बस systematic तरीके से इस तकनीक को फॉलो करते हुए ब्लॉग पर काम करना है | इससे हम बहुत कम दिनों में ही अपने पोस्ट या आर्टिकल को गूगल पर रैंक करा सकते हैं |

हर ब्लॉगर अपने पोस्ट या आर्टिकल को पहले टॉप 10 पर ही रैंक कराना चाहता है | इसके लिए आपको इस आर्टिकल SEO क्या है [what is seo in hindi ] को ध्यानपूर्वक पढ़ते रहना है |

क्यूंकि आपने ये जरूर नोटिस किया होगा की जब कोई गूगल में कुछ जानकारी सर्च करता है | वो पहले पेज से ही जानकारी ले लेता है | उसे दूसरे पेज  में जाने की जरुरत ही नहीं पड़ती | अब आप ही कमेंट करके बताओ आप कितनी बार गूगल के दूसरे पेज में जाते हैं?

Search engine क्या होता है

सबसे पहले आपके लिए यह जाना बहुत जरूरी है कि search engine क्या है। search engine एक ऐसा alogrithum है जो हमारे द्वारा internet पर search की गई जानकारी की सही information देने का काम करता है |

इसके लिए वह अपने डेटा base में मौजूद जानकारी को fastly crawl, index और Rank देता है| जिसे SNRP (Search engine Result Page) कहते है। किसी भी Page को search Result में Top पर लाने के लिए Seo की बहुत बड़ी भूमिका होती है। google,Yahoo, Bing यह सब search engine है।

आज के समय मे google search engine सबसे ज्यादा popular है | क्योंकि अगर हमे कुछ भी सर्च करना होता है तो हम google search engine का इस्तेमाल करते है। दुनिया मे 70 Precent लोग google का use करते है।

क्या आप जानते है जब आप google पर कुछ भी search करते है | तो google आपको best Result देने के लिए 200 factor का इस्तेमाल करता है | जो article google के इन मापदंडों के अनुसार होता है | वही आपको google के first page पर show होता है। जिसे आपको बिल्कुल सही जानकारी मिल सके।

SERP [search engine Result Page] क्या है?

SERP यानि Search Engine result Page. जब हम गूगल या किसी दूसरे सर्च इंजन में किसी कीवर्ड को सर्च करते हैं तो वो सारे रिजल्ट्स को अपने पेज में शो करता है.

सर्च करने पर ये जो पेज खुल कर आता है उसे ही Search Engine result Page बोलते हैं | Search Engine result Page पर जो रिजल्ट्स आती है लिस्ट के तोर पर उसमे 2 तरह की Listings होती है |

1. Organic Listing

Organic listing वो लिस्टिंग है जिसमे हम बिना पैसे खर्च किये हुए सर्च इंजन के रिजल्ट पेज पर आते हैं |

लेकिन इसके लिए हमे सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन करना पड़ता है | Organic listing सबसे बेस्ट होती है क्यों की इससे हमे रेगुलर ट्रैफिक मिलती रहती हैं |

2. Inorganic Listing

जब हम पैसा खर्च कर के गूगल  के रिजल्ट पेज पर आते हैं तो इस को हम Inorganic listing बोलते हैं | ये लिस्टिंग स्टेबल नहीं होती यानि जब तक हम गूगल को पैसा देते रहेंगे तभी तक हम रिजल्ट पेज पर आ सकते हैं |

सर्च इंजन कैसे काम करता है?

सर्च इंजन हमारे और उन अनगिनत वेबसाइट के बीच का माध्यम है | जो किसी भी जानकारी को सर्च कर के हमारे सामने show करा देती हैं |

सर्च इंजन में अल्गोरिथम सेट किया हुआ होता है | जो इतने वेबसाइट के बीच से भी अलग अलग जानकारी को चुन के निकाल लेता है | तो जिन वेबसाइट में जैसा Search Engine Optimization किया हुआ होता है उन्हें वो वैसी रैंकिंग में show करता है |

जैसे अगर आप search करते हो “ SEO क्या है [what is seo in hindi ]  तो Search engine पहले से ही crawl और index की हुई Ranking list को आपके सामने ले आता है। जिसे search engine के bots और spider लगातार 24 hours crawl और index करके अपनी Ranking list बना लेते है। और जैसे ही आप कुछ सर्च करते है तो वह आपको search engine Result Page(SERP) पर दिखाई देती है।

वैसे तो सभी search engine के काम करने की अलग अलग technic होती है। लेकिन हर search engine तीन step में काम करता है।

1. Crawling

जब search engine Bots और Spider आपके Page को खोजकर उसे स्कैन करते है , तो उसे crawling कहते है |

2. Indexing

आपके Page के content और quality के अधार पर आपको search engine में index किया जाता है |

3. Ranking

किसी पेज के search engine के मापदंडो के अनुसार search result में उसकी Position को ranking कहते है |

SEO के प्रकार – Types of SEO in Hindi

अभी तक हमने जाना की SEO क्या है [what is seo in hindi ] | और ये क्यों जरुरी होता है | इसके बाद हम बात करते हैं की ये कितने तरह से किया जाता है | जब वेबसाइट ब्लॉग बनता है तभी से उसकी Optimization की शुरुआत हो जाती है |

यानि की पोस्ट पब्लिश करने के पहले से ही इस पर काम करने की शुरुआत हो जाती है | आजकल वर्डप्रेस में ब्लॉग्गिंग सबसे ज्यादा की जाती है |

आप वर्डप्रेस क्या है इसके बारे में भी अच्छे से जानते हैं | तो आपको मालूम होगा की इसमें बहुत सारे Plugins हमे फ्री में मिलते हैं |जिनमे से बहुत से Optimization के लिए भी इस्तेमाल करते हैं | तो चलिए जानते है इस के प्रकार के बारे में |

ये मुख्यत 2 प्रकार के होते हैं |

  • On-Page SEO
  • Off-Page  SEO

SEO कैसे करते है ?

जैसा की हम आपको पहले ही बता चुके हैं Search Engine Optimization दो तरह के होते हैं | और इन्ही दोनों तरीकों से Search Engine Optimization करते हैं |

On-Page SEO

हर वो तरीका जो हम अपने ब्लॉग के अंदर Search Engine Optimization के लिए करते हैं उसे On-Page SEO बोला जाता है |

इसका मतलब ये है की हम अपने ब्लॉग के Design और speed optimization से लेकर पोस्ट पब्लिश करने तक जो सारे काम करते हैं | जैसे की responsive theme का इस्तेमाल करना जो की Mobile friendly हो |

अच्छे content लिखना जो लोगों को पढ़ने में पसंद आये जिसमे हर जरुरी जानकारी हो | Page की speed अच्छी होनी चाहिए कम समय में page खुल जाना चाहिए |अपने ब्लॉग के लिए मेटा डिस्क्रिप्शन लिखना |

पोस्ट लिखने के पहले कीवर्ड रिसर्च करना ताकि उससे सर्च इंजन में पोस्ट की रैंकिंग हो | कीवर्ड का प्लेसमेंट ज़रूरी जगह पर करना जैसे Title, Permalink और Meta description में |

कीवर्ड की Density content में proper तरीके से रखना | Internal और External linking करना ये सभी On-Page के अंदर आते हैं | इससे गूगल हमारे ब्लॉग को सर्च रिजल्ट में आसानी से रैंक करा देता है और हमे बढ़िया Organic ट्रैफिक मिलती है |

यहाँ हम संक्षेप में On Page SEO के बारे में बात करेंगे लेकिन अगर आप इस टॉपिक पर पुरे डिटेल में पढ़ना चाहते हैं| तो यहाँ से पढ़ सकते हैं, जिस में हमने इसके बारे में पूरी जानकारी आसान शब्दों में लिखी है |

तो चलिए इस के मुख्य बातों को समझ लेते हैं |

देखिये दोस्तों अब आपको हर पॉइंट बहुत ही ध्यान से पढ़ना है | क्यों की मैं यहाँ पर अपने पर्सनल अनुभव के आधार पर सभी जानकारी दे रहा हूँ | जो पक्का आपको एसईओ को अच्छा करने में मदद करेंगे |

पोस्ट को अंत तक पढ़ते पढ़ते आप भी अपने पोस्ट को रैंक करने में माहिर हो जायेंगे |

जब आप अच्छे प्लानिंग के साथ किसी पोस्ट की तयारी करते हैं |तो फिर पोस्ट कंटेंट भी बेस्ट बनेगी और रैंक करने में भी आसानी होगी | वर्ण वही लाखों के बीच आपका पोस्ट भी अँधेरे में पड़ा रहेगा और रैंक हासिल नहीं कर सकेगा |

इसे भी पढ़े :- Cryptocurrency के फायदे और नुकसान

Proper कीवर्ड रिसर्च करना 

मैंने यहाँ पहले पॉइंट में ही कीवर्ड रिसर्च को जगह दिया है क्यों की यही से पोस्ट लिखने की शुरुआत होती है | जो नए ब्लोग्गेर्स होते हैं वो कीवर्ड रिसर्च में ध्यान नहीं देते हैं |

अगर मैं सही हूँ तो आप भी कीवर्ड रिसर्च पर ध्यान नहीं देते हैं इसीलिए आपकी पोस्ट रैंक नहीं कर रही है | कीवर्ड रिसर्च के बिना पोस्ट लिखने का कोई फायदा नहीं है | बस समझ ले की इसके बिना आप बस टाइम की बर्बादी कर रहे हैं |

तो आखिर ये कैसे करें? मैं यहाँ पर आपको बस अपने स्टेप्स बता रहा हूँ जिसे आप फॉलो करें जरूर सफलता मिलेगी | आप अपने इंटरेस्टेड टॉपिक्स के बारे में एक लिस्ट तैयार कर लें की आपको किस किस टॉपिक पर लिखना है |

फिर एक बार में सिर्फ एक टॉपिक को चुन लें और उसके लिए एक नयी फाइल नोटपैड या फिर वर्डपैड में बना लें | अब हमे इस एक टॉपिक के कीवर्ड तलाशने हैं | दोस्तों आज के समय में Head कीवर्ड पर बिलकुल भी ध्यान न दें | बल्कि उस कीवर्ड के long-tail कीवर्ड को सर्च करना जरुरी है |

इस में सबसे अधिक जरुरी हैं LSI कीवर्ड्स | जब आप गूगल के सर्च बॉक्स में किसी टॉपिक पर query सर्च करते हैं | तो पूरा लिखने के पहले आप देखेंगे की वहां पर नीचे में और lines गूगल guess कर के आपको दिखाना शुरू कर देगा |

ये Automatic keywords long-tail के रूप में हम इस्तेमाल कर सकते हैं |

Practical Example:

मान लीजिये मेरी विशेष और ग्रीटिंग वाली वेबसाइट है | और हम Happy Birthday Wishes के ऊपर पोस्ट लिखना चाहते हैं | तो हम यहाँ अगर सिर्फ इसी कीवर्ड पर पोस्ट लिखेंगे तो पोस्ट रैंक करना बहुत मुश्किल होगा | क्यों की इस पर सर्च वॉल्यूम बहुत ज्यादा है और competition उतना ही कड़ा |

यहाँ हम long tail keyword का इस्तेमाल करेंगे जैसे मैंने यहाँ पर इस तरह के keywords निकाले हैं |

  • Happy Birthday wishes for brother
  • Happy birthday wishes for brother in Hindi
  • Heart touching birthday wishes for brother in Hindi

हमने यहाँ पर भाई के लिए जन्मदिन पर लिखेंगे तो इसी पर हम मिलते जुलते 3-4 long-tail keywords निकाल कर इस्तेमाल कर सकते हैं | इन में जिस कीवर्ड पर competition कम होगा उसी को main यानि focus keyword के रूप में इस्तेमाल करेंगे |

ध्यान रखे :-

“नए ब्लोग्गर्स हाई ट्रैफिक देख कर कीवर्ड सेलेक्ट कर लेते हैं और उसी का इस्तेमाल कर लेते हैं | मेरा विश्वास कीजिये आपका पोस्ट कभी रैंक नहीं करेगा | आप देखें की उस कीवर्ड competition कितना है | “

Keyword का जितना high volume होगा competition उतना अधिक होगा | अगर आप मेरे इस लाइन को समझ जायेंगे तो कीवर्ड रिसर्च में आप जरूर सफल हो जायेंगे | कीवर्ड का volume जितना काम होगा उसकी competition का अंदाज़ा लगाना उतना आसान होगा |

1. Post Title 

जब हम कीवर्ड रिसर्च कर के पूरा कर लेते हैं तो जिस टारगेट कीवर्ड पर पोस्ट को रैंक कराना चाहते हैं | उसी कीवर्ड को हम पोस्ट title में भी डालते हैं | लेकिन अगर टारगेट का अभी भी competition बहुत high लग रहा है | तो कम competition वाले कीवर्ड को ही main कीवर्ड के रूप में इस्तेमाल करना सही रहेगा |

2. Permalink 

हमारा पोस्ट का जो भी URL होता है वहां पर main कीवर्ड का इस्तेमाल करना जरुरी है | हमेशा इस बात को ध्यान रखते हैं की post permalink में कभी भी stop word जैसे (am,is ,are,on) ना करें |

साथ ही post permalink में कभी भी ऐसे words का इस्तेमाल ना करें , जिसे कभी बदलने की जरुरत पड़े | URL जितना छोटा हो उतना अच्छा है |

3. Meta Description 

आपने जिन कीवर्ड के आधार पर पोस्ट को रैंक करने का प्लान किया है | उन कीवर्ड्स को अपने पोस्ट के meta description में जरूर डालें |

4. Keyword Density 

पोस्ट के अंदर keywords का इस्तेमाल सही जगह पर सही संख्या में करना बहुत ही जरुरी है | कीवर्ड्स  को बार बार घुमा फिर के जरुरत से ज्यादा इस्तेमाल करना keywords stuffing कहलाता है |

ऐसा करने से गूगल रैंकिंग तो देगा नहीं बल्कि रैंकिंग में नीचे गिरा देगा | इसीलिए जितना हो सके कम ही कीवर्ड का इस्तेमाल करे |कीवर्ड्स का इस्तेमाल पहले पैराग्राफ और अंतिम पैराग्राफ में जरूर करें |

इसके अलावा हैडिंग में भी कीवर्ड का इस्तेमाल जरूर करें | और कंटेंट के अंदर कीवर्ड को जरुरत के अनुसार ही इस्तेमाल करें | इनका इस्तेमाल जितना हो सके naturally ही करें जबरदस्ती कहीं भी इस्तेमाल न करें |

ध्यान रहे :-

Density कभी भी 2.5 % से ज्यादा ना होने दें. इसका मतलब ये है की अगर आप 1000 शब्दों का पोस्ट लिख रहे हैं | तो अपने कीवर्ड को 25 बार इस्तेमाल कर सकते हैं लेकिन मेरी माने तो 1.5%-2.5% के बीच ही रखें |

5. Proper use of Headings( H1, H2, H3, H4, H5, H6)  

Heading में अपने चुने हुए focus phrase का इस्तेमाल जरूर करें | अपना पोस्ट जब भी लिखें तो  H1 का इस्तेमाल न करें क्यूंकि पोस्ट का title H1  होता है | इसीलिए अपने पोस्ट के अंदर H2, H3, H4… आदि का जरुरत के अनुसार इस्तेमाल करें |

6. Image Optimization  

Image का ऑप्टिमाइजेशन 2 चीज़ों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है |

पहला तो ये की  इसका साइज कम होना चाहिए क्यूंकि इमेज का साइज जितना अधिक होगा | वो पेज के लोडिंग टाइम को बढ़ाएगा इसीलिए इमेज को compress कर के डालें | और साथ ही इमेज में alt attribute में अपने कीवर्ड का इस्तेमाल करें |

7. Internal Linking

अपने लिखे जा रहे पोस्ट से जुड़े पोस्ट के लिंक को भी जरूर add करें | ताकि लोगों को टॉपिक समझने में आसानी हो | इससे विजिटर आपके दूसरे पोस्ट को पढ़ेंगे और आप यूजर इंगेजमेंट बढ़ा सकते हैं |

साथ ही ये दूसरे पोस्ट के लिए भी बहुत इम्पोर्टेन्ट होता है जिससे की गूगल को उसके लिए रैंकिंग में मदद मिलती है |

जो पोस्ट पहले से रैंक हैं उस में नए पोस्ट के लिंक ऐड कर के उसे भी आसानी बिना कोई बैकलिंक बनाये यानो जीरो बैकलिंक होते हुए भी रैंक करा सकते हैं |

8. External Linking 

कम से कम एक external लिंक जरूर add करें जो की उस टॉपिक को represent करता हो | और reference के लिए वहां से उसे जानकारी मिल सके |

9. Page Speed 

गूगल के अनुसार अगर किसी पेज को लोड होने में 3 second से ज्यादा समय लग रहा है तो फिर उस पेज का रैंक होना बहुत मुश्किल है | अपने वेबसाइट में अच्छी और light weight fast theme का इस्तेमाल करें जो load time को काम करे |

आप अच्छी स्पीड के लिए क्लाउड होस्टिंग का इस्तेमाल करे |

10. Social Signals 

अपने पोस्ट को social sites फेसबुक,ट्विटर,इंस्टाग्राम में जरूर शेयर करें | इन सोशल साइट्स की रैंकिंग बहुत अच्छी होती है जब वहां से कोई भी विजिटर आता है | तो इससे गूगल को उस पोस्ट के लिए पॉजिटिव सिग्नल मिलता है | जिससे उस पोस्ट की रैंकिंग इम्प्रूव होती है |

11. Attaching a related video 

पोस्ट के ऊपर एक अच्छी सी वीडियो बनाये क्यों की लोग आजकल पढ़ने से ज्यादा वीडियो देखना पसंद करते हैं | इससे आप लोगों को उसी टॉपिक को वीडियो के जरिये समझा सकते हैं जिन्हे पढ़ना ज्यादा पसंद नहीं है |

Off-Page SEO

पोस्ट पब्लिश करने के बाद उसे रैंक करने के लिए जो Optimization Technique का प्रयोग करते हैं उसे हम OFF-Page SEO बोलते हैं |

Off-Page Optimization में हम Search engine submission, Web Directory Submission, Social media sites, Discussion forums, Blog commenting, Backlinks creation और Guest पोस्ट करते हैं |

अब आप Search Engine Optimization के बारे में जान चुके हैं तो इसके महत्व को भी समझ गए होंगे की ये क्यों जरुरी है |

आइये उन टेक्निक्स के बारे में थोड़ी जानकारी हासिल कर लेते हैं | जिससे की पोस्ट को रैंक करने में हमे मदद मिलती है और जो बहुत जरुरी भी हैं |

1. Guest Post 

मेरा मानना ये है की बैकलिंक्स बनाने का सबसे अच्छा तरीका है | दूसरे similar वेबसाइट में Guest Post लिखना। जब आप किसी अच्छे High DA और PA वाली वेबसाइट के लिए गेस्ट पोस्ट लिखते हैं | तो आपको एक Do-follow बैकलिंक मिलता है जो आपके domain की authority को बढ़ाता है |

इसका दूसरा फायदा ये है की जब आप बड़े वेबसाइट में लिखते हैं तो आपको लोग वहां पहचानने लगते हैं | और आपकी वेबसाइट को भी विजिट करते हैं. इससे आपको उस  ट्रैफिक मिलती है |

2. Backlinks 

जब आपकी वेबसाइट के किसी पोस्ट या होमपेज का लिंक किसी दूसरे वेबसाइट में जुड़ता है | तो एक returning link आपके वेबसाइट को मिलता है जिसे बैकलिंक बोलते हैं | DA बढ़ने के लिए बैकलिंक एक बहुत ही महत्वपूर्ण चीज़ है |

लेकिन कभी भी अंधाधुंध बैकलिंक न बनायें | गेस्ट पोस्ट लिख कर और फोरम में डिस्कशन कर के नेचुरल तरीके से बैकलिंक बनायें | और आपकी साइट की निचे के हिसाब से बैकलिंक बनाने की कोशिश करें |

3. Discussion Sites 

आप ने Quora का नाम जरूर सुना होगा लोग इस में अपने question डालते हैं और एक्सपर्ट्सन सवालों के जवाब देते हैं

जब वो कोई जवाब लिखते हैं तो साथ में एक reference लिंक भी जरुरत के अनुसार देते हैं | इस तरह उन्हें इसके जरिये Quora से भी ट्रैफिक मिलती है |

आपके लिए कुछ उपयोगी links :-

Free Blog Kaise Banaye 2022 पूरी जानकारी

Blogging से पैसे कैसे कमाए 2022 – पूरी जानकारी हिंदी मे

[10+ तरीके] Google Se Paise Kaise Kamaye 2022

(10 Tips) Successful Blogger Kaise Bane 2022

SEO क्या है और कैसे काम करता है?

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन कैसे करें?

तो दोस्तो इस पोस्ट में हमने आपको  SEO क्या है [what is seo in hindi ] और वह किसी भी website के लिए कितना जरूरी होता है | इसके बारे में बिल्कुल आसान शब्दो मे बताया है |

इससे आपको जरूर मदद मिली होगी तो अगर आपको हमारा यह आर्टिकल SEO क्या है और इसके प्रकार – What is SEO in Hindi पसंद आया होगा | तो उसे सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें | और फिर आपको कोई समस्या आती है तो हमे Comment में जरूर बतायें।

Sandeep Kumar
Sandeep Kumarhttp://sbkuchhindime.in
नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम Sandeep Kumar है और मै Sbkuchhindime का Author और Founder हूँ । मै Computer Science से BCA Graduate हू । मुझे नई टेक्नोलॉजी के बारे में जानना और उसे दुसरो से शेयर करने में अच्छा लगता है । मेरी आपसे विनती है कि इस काम में मेरा सहयोग करिये , जिससे मै आपसे लिए नई - नई जानकारी शेयर कर सकू ।
RELATED ARTICLES

11 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments